7th Pay Commission Pension: केंद्रीय कर्मचारियों को पुरानी पेंशन का लाभ, ये है सरकार का प्लान

7th Pay Commission Pension: नया साल केंद्रीय कर्मचारियों के लिए खुशखबरी लाने वाला है। अब कर्मचारियों को जल्द ही पुरानी पेंशन योजना (Old Pension Scheme) का लाभ मिलने वाला है। इसके लिए कर्मचारियों ने लंबे समय से सरकार के सामने डिमांड रखी है। केंद्र की मोदी सरकार अब कर्मचारियों की डिमांड पर विचार कर रही है केंद्र ने ओल्ड पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) कानून मंत्रालय से इसके लिए राय भी मांगी है। अब मंत्रालय से इससे सम्बंधित जवाब मिलने का इंतजार है।

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए सरकार जल्द ही अच्छी खबर दे सकती है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को केवल 7th Pay Commission Pension का लाभ दिया जा सकता है. लंबे समय से Old Pension Scheme-OPS की मांग भी central government employees द्वारा रखी गई थी। ताकि उन्हें पुरानी पेंशन के तहत ही लाभ मिल सके। आपको बता दें कि केंद्र सरकार इस समय 7th Pay Commission Pension के तहत Old Pension Scheme को लागू करने पर विचार कर रही है, जिस पर जल्द ही फैसला आ सकता है।

7th Pay Commission Pension: ये है प्लान

केंद्र सरकार कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना (Old Pension Scheme, OPS) देने पर विचार कर रही है। जिन सरकारी कर्मचारियों की भर्ती के लिए विज्ञापन 31 दिसंबर 2003 को या उससे पहले जारी किए गए थे, उन्हें ये फायदा मिलेगा। कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय में राज्य मंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह के अनुसार, इस मुद्दे पर फाइनल फैसला कानून मंत्रालय के जवाब आने के बाद ही लिया जाएगा।

7th Pay Commission Pension
7th Pay Commission Pension


केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने बताया की सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद सरकार ने इस मामले को कानून मंत्रालय को दे दिया था। DoP&PW उन कर्मचारियों को NPS(National Pension System) से बाहर रख सकता है जिनकी भर्ती के लिए विज्ञापन 01 जनवरी 2004 को या उससे पहले जारी किया गया था और उन्हें पुरानी पेंशन योजना (OPS) के तहत कवर कर सकता है। अगर सरकार इस सम्बन्ध में उचित निर्णय लेती है तो पेंशन में बड़ा फायदा देखने को मिल सकता है।

2005 में बंद हुई थी Old pension

जानकारी के अनुसार अप्रैल 2005 के बाद तत्कालीन Prime Minister Atal Bihari Vajpayee की केंद्र सरकार ने पुरानी पेंशन को नियुक्तियों के लिए रोक दिया था, New Pension Scheme शुरू की गई। नई पेंशन योजना को लागू करने में केंद्र सरकार के बाद राज्य भी पीछे नहीं रहे। हालांकि यह अनिवार्य नहीं था। संघ का मानना है कि उस समय कर्मचारियों को यह New Pension Scheme समझ में नहीं आई, उन्हें लगा कि इस योजना से उन्हें सेवानिवृत्ति के बाद old pension scheme से अधिक लाभ मिलेगा, लेकिन यह भ्रम टूट गया और पिछले कई वर्षों से नई पेंशन योजना का प्रयोग किया गया। विरोध शुरू हो गया। आइए समझते हैं कि दो पेंशन योजनाओं के बीच क्या अंतर है।

Old Pension Scheme Vs. New Pension Scheme

OPS (पुरानी पेंशन स्कीम)NPS (नई पेंशन स्कीम)
old pension scheme में पेंशन के लिए वेतन से कोई कटौती नहीं होतीNPS में कर्मचारी के वेतन से 10 प्रतिशत Basic + DA की कटौती
पुरानी पेंशन योजना में General Provident Fund (GPF) की सुविधा हैNPS में General Provident Fund (GPF) की सुविधा को नहीं जोड़ा गया
पुरानी पेंशन एक सुरक्षित पेंशन योजना है। इसका भुगतान सरकार की Treasury के जरिए किया जाता हैNPS Share Market आधारित है, बाजार की चाल के आधार पर ही भुगतान होता है
OPS में रिटायरमेंट के समय final basic salary के 50 फीसदी तक निश्चित पेंशन मिलती हैNPS में रिटायरमेंट के समय निश्चित पेंशन की कोई गारंटी नहीं है
पुरानी पेंशन योजना में 6 महीने के बाद मिलने वाला महंगाई भत्ता (dearness allowance) DA लागू होता हैNPS में 6 महीने के बाद मिलने वाला dearness allowance लागू नहीं होता है
OPS में रिटायरमेंट के बाद 20 लाख रुपए तक Gratuity मिलती हैNPS में रिटायरमेंट के समय Gratuity का अस्थाई प्रावधान है
OPS में सर्विस के दौरान मौत होने पर family pension का प्रावधान हैNPS में सर्विस के दौरान मौत होने पर family pension मिलती है
OPS में retirement पर GPF के ब्याज पर किसी प्रकार का Income Tax नहीं लगता हैNPS में retirement पर शेयर बाजार के आधार पर जो पैसा मिलेगा, उस पर Tax देना पड़ेगा
NPS में retirement पर पेंशन प्राप्ति के लिए NPS फंड से 40 फीसदी पैसा इन्वेस्ट करना होता है।OPS में 40 फीसदी पेंशन commutation का प्रावधान है।

इससे जुड़ी ज़्यादा जानकारी पाने के लिए SARKARIIYOJANA.IN को बुकमार्क करें।

close button