[14 सितम्बर ] Hindi Diwas Speech in Hindi | हिंदी दिवस पर छोटा सा भाषण

Hindi Diwas Speech in Hindi: हिंदी हमारी भाषा है, इसका मान सम्मान हमारी नैतिक और मौलिक जिम्मेदारी है। वैसे तो हर दिन ही इसके सम्मान के लिए होता है लेकिन फिर भी एक दिन और है जब हम खास तौर से हिंदी दिवस को मानते हैं और वह दिन जल्द ही आने वाला है। इस दिन स्कूल्स में हिंदी दिवस पर कार्यकर्मों का आयोजन किया जाता है जहां बच्चे हिंदी दिवस पर भाषण और स्टेटस से इस दिन को याद करते हैं और हिंदी दिवस का पूरा सम्मान करते हैं। आज हम आपको यहां इसी तरह के कुछ छोटे भाषण और स्टेटस बताने जा रहें है जिनको आप अपने बच्चे को बता सकते हैं और उनके अंदर आत्मविश्वास बढ़ा सकते हैं।

Hindi Diwas Speech in Hindi

देश में हर साल 14 सितंबर को Hindi Divas मनाया जाता है। भारत भिन्न भिन्न विविधताओं वाला देश है, जहां अनेक प्रकार की भाषाएं और बोलियां बोली जाती हैं, और उनमें से सबसे ज्यादा बोली जाने वाली हमारी भाषा हिंदी है। हिंदी हमारी प्रथम भाषा है जो जन्म से हमारे साथ है , देश की लगभग 80 प्रतिशत जनता बोलचाल की भाषा के लिए हिंदी भाषा का प्रयोग करती है।

Hindi Diwas Speech in Hindi for Students

आदरणीय प्रधानाध्यापक, शिक्षक गण और मेरे सभी प्यारे सहपाठियों को मेरा हृदय से अभिनन्दन । मेरा नाम (अपना पूरा नाम) है, और आज मुझे आप सभी के समक्ष हिंदी दिवस के अवसर पर भाषण प्रस्तुत करने का जो अभूतपूर्व अवसर प्राप्त हुआ है उसके लिए मैं आप सभी का हृदय से आभार प्रकट करना चाहता हूं/ चाहती हूँ ।

जन-जन की आशा है हिंदी,
भारत की भाषा है हिंदी।

आदरणीय श्रोता, जैसा कि हम सभी जानते हैं हर वर्ष 14 सितंबर हिंदी दिवस पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है। इस दिवस को 1953 में शुरू किया गया था। हिंदी दिवस को मनाने का उद्देस्य हिंदी भाषा के प्रति जागरुकता पैदा करना और हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार करना है।

हर भाषा का करो सम्मान ,
पर हिंदी का न करो अपमान ।

प्राचीन समय से भारत अपनी विविध और भिन्न भिन्न संस्कृति विभिन्न धर्म समुदाय और जाति की वजह से जाना जाता है। भारत सम्पूर्ण विश्व का एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न भिन्न धर्म जाति रंग-रूप और अलग-अलग संस्कृति के नागरिक एक साथ मिलकर प्रेम से रहते है। और हम सभी को पूरे विश्व भर में भारत के रूप में चिन्हित किया जाता है जहाँ हम खुद को हिंदीभासी होकर रिप्रेजेंट करते हैं। हमारी भाषा हम कहीं भी जाएँ हमारे साथ हर पल है और यही हमे हमेशा हमारे अपनों से जोड़े रखती है।

हर भारत वाशी की शक्ति है हिंदी,
सहज भाव की अभिव्यक्ति है हिंदी

आज के समय में हमारे देश में अंग्रेजी को अधिक महत्व दिया जा रहा है वह चाहे रोजगार पाने का अवसर हो या कुछ भी , आज हम अंग्रेजी को हिंदी से आगे रख रहे हैं, जो की बिलकुल गलत है यही वजह है कि भारत की राष्ट्रभाषा हिंदी को वह दर्जा नहीं मिल पाता है जिसकी वह पूर्ण रूप से हकदार है।

हिंदी सिर्फ भाषा नहीं, भावों की अभिव्यक्ति है,
यह अपनी मातृभूमि में मर मिटने की शक्ति है।

यही एक वजह है जिसके हिंदी भाषा और हिंदी साहित्य को सम्पूर्ण देश में प्रचारित करने के लिए हिंदी दिवस का त्यौहार मनाया जाता है। हिंदी दिवस पर समारोह का आयोजन होता है जिसमें हिंदी साहित्य और भाषा पर बात की जाती है। केंद्र सरकार भी हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी साहित्य से जुड़े साहित्यकारों और विद्वानों को पुरस्कार से सम्मानित करती है।

इसी के साथ में आप सभी को हिंदी दिवस की दिल से शुभकामनाएं देते हुए अपने भाषण को समाप्त करने की इजाजत चाहता हूं। आपका सभी का बहुत धन्यवाद !

Home PageClick Here
close button