Ration Card Complaint Helpline [State-Wise]: राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन नंबर

NFSA Ration Card Complaint Helpline: गरीबों को खाने की परेशानी से बचाने के लिए सरकार ration card के जरिए उन्हें राशन देती है। इस कार्ड के माध्यम से ही कोरोना काल में गरीबों की रोजी-रोटी बचाई गई है। बता दें कि देश में अब तक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PM Garib Kalyan Ann Yojna) के तहत मुफ्त राशन दिया जा रहा है. लेकिन इस बीच खबर आ रही है कि बहुत से लोगों को राशन कम मिल रहा है और राशन कार्ड डीलर उन अनाज को निजी लोगों को बेच रहे हैं. ऐसे में अगर आपके साथ भी कुछ ऐसा हो रहा है या आपके पास राशन संबंधी कोई शिकायत नंबर है तो आप इन टोल फ्री नंबरों पर शिकायत कर सकते हैं। सरकार ने राज्यों के अनुसार टोल फ्री नंबर जारी किए हैं।

इस योजना के चलते हुए काफी समय से ऐसे कई मामले सरकार के सामने आये हैं जिनमें उपभोक्ताओं को पूरी राशन नहीं मिली है। क्योंकि राशन देते वक्त राशन डीलर उपभोक्ताओं को पूरा राशन नहीं देते हैं या राशन देते समय बहाने बना कर राशन देने में आनाकानी करते हैं। ऐसी स्थिति में जरूरतमंद नागरिक परेशान हो जाते हैं और उन्हें पता नहीं होता है कि राशन डीलर की शिकायत कैसे करनी है।

Ration Card Complaint Helpline

इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए सरकार ने अपने ऑफिशियल पोर्टल https://nfsa.gov.in/ पर अलग -अलग राज्यों के लिए अलग -अलग हेल्पलाइन नंबरों को जारी किया है, जिनकी सहायता से नागरिकऐसी समस्या होने पर राशन डीलर की शिकायत कर सकते हैं। जरूरतमंद नागरिकों की शिकायत के बाद इस पर सुनवाई होगी और जांच करने पर शिकायत सही होने पर राशन डीलर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

राज्य एवं शिकायत हेतु हेल्पलाइन नंबर

यहाँ पर सभी राज्यों के लिए अलग -अलग हेल्पलाइन नंबर (Ration Card Complaint Helpline) दिए गए हैं।

State NameRation Card Complaint Helpline numbers
आंध्रप्रदेश 1800-425-2977
अरुणाचल प्रदेश 03602244290
असम 1800-345-3611
बिहार 1800-3456-194
छ्त्तीसगढ़1800-233-3663
गोवा1800-233-0022
गुजरात1800-233-5500
हरियाणा 1800-180-2087
हिमाचल प्रदेश 1800-180-8026
झारखंड 1800-345-6598, 1800-212-5512
कर्नाटक 1800-425-9339
केरल 1800-425-1550
मध्यप्रदेश 181
महाराष्ट्र 1800-22-4950
मणिपुर 1800-345-3821
मेघालय 1800-345-3670
मिजोरम 1860-222-222-789, 1800-345-3891
नागालैंड1800-345-3704, 1800-345-3705
ओड़िशा 1800-345-6724 / 6760
पंजाब 1800-3006-1313
राजस्थान 1800-180-6127
सिक्किम 1800-345-3236
तमिलनाडु 1800-425-5901
तेलंगाना 1800-4250-0333
त्रिपुरा1800-345-3665
उत्तरप्रदेश1800-180-0150
उत्तराखंड 1800-180-2000, 1800-180-4188
पश्चिम बंगाल 1800-345-5505
दिल्ली 1800-110-841
जम्मू 1800-180-7106
कश्मीर1800-180-7011
अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह 1800-343-3197
चण्डीगढ़ 1800-180-2068
दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव 1800-233-4004
लक्षद्वीप 1800-425-3186
पुदुच्चेरी 1800-425-1082

इसके साथ ही आप चाहें तो NFSA की वेबसाइट https://nfsa.gov.in पर जाकर भी नंबर निकाल सकते हैं। आप इस वेबसाइट पर मेल के माध्यम से भी शिकायत दर्ज कर सकते हैं। अक्सर देखा गया है कि कई लोगों को राशन कार्ड के लिए आवेदन करने के बाद भी कई महीनों तक राशन कार्ड नहीं मिल पाता है। ऐसे में वह इसके जरिए आसानी से इसकी शिकायत भी कर सकता है।

सरकार ने भ्रष्टाचार को खत्म करने और खाद्य वितरण से संबंधित खामियों को रोकने के लिए शिकायत हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं ताकि गरीबों तक सब्सिडी वाला राशन पहुंचे। यदि किसी राशन कार्ड धारक को उसका भोजन का कोटा नहीं मिल रहा है तो वह टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है।

कई राज्यों में राशन कार्ड मुफ्त में बनते हैं। कई राज्यों में पैसे खर्च होते हैं। हालांकि, राशन कार्ड बनाने की फीस 5 रुपये से लेकर 40 रुपये तक है। राशन कार्ड हर किसी के लिए नहीं बनाया जा सकता है। इसे आय के आधार पर बनाया जाता है।

बिना इन दस्तावेजों के नहीं बनेंगे राशन कार्ड

आईडी प्रूफ के रूप में आप अपना आधार कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, हेल्थ कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस दे सकते हैं. इसके अलावा पैन कार्ड, पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ, आय प्रमाण पत्र, पते के प्रमाण के रूप में बिजली बिल, गैस कनेक्शन बुक, बैंक स्टेटमेंट या पासबुक, रेंटल एग्रीमेंट जैसे दस्तावेज भी जरूरी होते हैं।

नवीनतम अपडेट के लिए आप हमारी साइट sarkariiyojana.in को बुकमार्क करें।

close button