NEET PG Postponed : सुप्रीम कोर्ट ने NEET PG परीक्षा को नहीं किया स्थगित, जानें यह खास वजह

NEET PG Postponed : सुप्रीम कोर्ट ने नीट स्नातकोत्तर 2022 (NEET PG 2022) को स्थगित करने की मांग करने वाले डॉक्टरों के एक समूह द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया है। परीक्षा अभी भी 21 मई को होने वाली है। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की बेंच ने कहा कि 2 लाख से अधिक डॉक्टरों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया है और अगर परीक्षा को आगे स्थगित किया जाता है तो उन 2 लाख से अधिक डॉक्टरों को प्रभाव पड़ेगा।

21 मई को होगी NEET PG Exam

आज सुप्रीम कोर्ट ने NEET PG के लिए दायर याचिका को खारिज कर दिया है। NEET PG परीक्षा 21 मई को अपने पुराने टाइम टेबल के अनुसार होगी। कई छात्र इस परीक्षा को स्थगित करने का बेसब्री से इन्तजार कर रहे थे। बता दें कि कोरोना महामारी के बढ़ते केस को देखते हुए भी अदालत ने इस याचिका को खारिज कर दिया। क्योकि कोरोना महामारी के दौरान रोगी की देखभाल के लिए डॉक्टरों की जरुरत पड़ती है। NEET PG Exam Postponed करने पर डॉक्टरों के करियर पर असर पड़ेगा।

याचिकाओं का विरोध करते हुए केंद्र ने कोर्ट को बताया कि मंत्रालय में गंभीर विचार-विमर्श किया गया और 10 मई को निर्णय लिया गया कि इसे जनहित में और चिकित्सा शिक्षा के हित में स्थगित नहीं किया जाना चाहिए। सरकार की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ऐश्वर्या भाटी ने अदालत से कहा कि किसी भी तरह की देरी से मरीज की देखभाल प्रभावित होगी क्योंकि इससे रेजिडेंट डॉक्टरों की संख्या कम होगी।

NEET PG Postponed करने से डॉक्टरों की होगी कमी

सुप्रीम कोर्ट ने NEET PG 2022 को स्थगित करने से इनकार करते हुए कहा कि देरी से डॉक्टरों की अनुपलब्धता होगी और रोगी की देखभाल गंभीर रूप से प्रभावित होगी। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने कहा कि परीक्षा स्थगित करने से अराजकता और अनिश्चितता पैदा होगी और इससे परीक्षा के लिए पंजीकरण कराने वाले छात्रों का बड़ा वर्ग प्रभावित होगा।

close button