5th to 7th Class Students Exam OMR Sheet : पहली बार 5 वीं से 7 वीं तक के छात्र OMR शीट से देंगे परीक्षा

5th to 7th Class Students Exam OMR Sheet : झारखंड में पहली बार पांचवीं से सातवीं कक्षा के बच्चे ओएमआर शीट (5th to 7th Class Students Exam OMR Sheet) पर परीक्षा देंगे। वहीं तीसरी और चौथी के बच्चे उत्तर पुस्तिका में ऑब्जेक्टिव प्रश्न हल करेंगे। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। 2019 के बाद पहली बार सातवीं कक्षा तक के बच्चों का मूल्यांकन होगा।

2020 में कोरोना के चलते बच्चों के मूल्यांकन का काम नहीं हो सका। अभी तक केवल आठवीं, नौवीं और ग्यारहवीं कक्षा की ओएमआर शीट (OMR Sheet) पर परीक्षाएं होती थीं जबकि कक्षा 1 से 7 तक का मूल्यांकन स्कूल स्तर पर ही किया जाता था। 31 मार्च को होने वाली मूल्यांकन परीक्षा में तीसरे से पांचवें के लिए 40-40 अंक के प्रश्न होंगे जबकि छठे-सातवें के लिए 50-50 अंकों के प्रश्न पूछे जाएंगे। मूल्यांकन सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक होगा। इसके लिए झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद ने सभी जिलों को निर्देश दिए हैं।

5th to 7th Class Students Exam OMR Sheet

पांचवीं से सातवीं कक्षा के बच्चों के लिए OMR शीट सभी जिलों को पहले ही उपलब्ध करा दी गई है। OMR शीट का प्रश्न पत्र JCERT को जैक से प्राप्त होगा। तीसरी और चौथी कक्षा के लिए प्रश्न सीधे JCERT से जिलों को उपलब्ध कराया जाएगा। ओएमआर शीट पर नाम पहले से ही अंकित है। इसे काटने के बाद छात्र अपना नाम भरेंगे।

तीसरी और चौथी की परीक्षा होगी OMR Sheet से

31 मार्च को तीन घंटे की मूल्यांकन परीक्षा के बाद अपराह्न तीन बजे तक ओएमआर शीट (OMR Sheet) का एक पैकेट तैयार कर कार्यालय को दिया जाएगा। इसके बाद 1 अप्रैल को इसे अनिवार्य रूप से प्रखंड जिले को सौंप दिया जाएगा। 2 अप्रैल को जिला कार्यालय इसे JCERT पहुंचाएगा। तीसरी और चौथी की प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में भी ऑब्जेक्टिव प्रश्न होंगे। इसका मूल्यांकन संबंधित स्कूल के शिक्षक करेंगे।

क्षेत्रीय भाषा का आकलन शिक्षक खुद करेंगे

कक्षा III से VII तक के बच्चों के मूल्यांकन में जो प्रश्न होंगे वे मुख्य विषयों के होंगे। क्षेत्रीय भाषा का मूल्यांकन विद्यालय के शिक्षकों द्वारा अपने स्तर पर किया जाएगा। स्कूलों में शिक्षकों द्वारा संस्कृत, उर्दू के अलावा बांग्ला, उड़िया सहित अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के विषय का मूल्यांकन किया जाएगा। इसके लिए जिलों के माध्यम से शिक्षकों को निर्देश भी दिए गए हैं।

सभी कक्षाएं शुरू हो गई हैं

JEPC की राज्य परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने निर्देश दिया है कि राज्य में सभी वर्गों का संचालन शुरू हो गया है। लंबे समय से स्कूल बंद रहने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। फिलहाल BRP-CRP द्वारा स्पॉट टेस्टिंग की जा रही है। इसी तरह 31 मार्च को राज्य भर में छात्रों का मूल्यांकन पूरा किया जाएगा। यह मूल्यांकन सभी सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए किया जाएगा। इस दौरान कोविड के मानकों का पालन किया जाएगा।

close button