Army Rank List : इंडियन आर्मी में पद और रैंक

Army Rank List: सेना देश की एक प्रतिष्ठित सेवा है और युवाओं की आकर्षण का केंद्र भी है। सेना के बारे में ज्यादातर सूचनाएं गुप्त रखी जाती है लेकिन युवाओं की जिज्ञासा हमेशा सेना के बारे में कुछ नया जानने के लिए रहती है। आज के इस आर्टिकल में हम सेना के विभिन्न पदों के बारे में आपको बताएंगे तथा यह भी बताएंगे कि आप किस तरह किसी सैनिक के कंधे पर विभिन्न प्रकार के चिन्हों से Army Rank के बारे में पता लगाएंगे।

Army Rank List
Army Officers Rank List

Army Rank List

दरअसल सेना में कार्यरत प्रत्येक कर्मचारी व अधिकारी किसी ने किसी बैंक के अंदर कार्य करता है। Army Rank List बहुत लंबी होती है तथा इन्हीं के आधार पर इन को मिलने वाली सुविधाएं, वेतन, कार्य आदि निर्धारित किए जाते हैं. 

भारतीय सेना में कार्यरत कर्मचारी तथा अधिकारी तीन श्रेणियों में बांटे जा सकते हैं. 

  • कमिश्नर ऑफिसर(Commissioned Officers)
  • जूनियर कमिश्नर ऑफिसर(Junior Commissioned Officers)
  • नॉन कमीशंड ऑफिसर(Non Commissioned Officers)

भारतीय सेना में प्रयोग किए प्रदान किए जाने वाले ओहदे तथा कार्य ब्रिटिश काल से प्रेरित हैं, उन्हें जिस नाम से ब्रिटिश काल में जाना जाता था उन्हीं नाम से आज भी आर्मी में जाना जाता है. हम आपके लिए भारतीय सेना में प्रयोग किए जाने वाले सभी पदों की सूची बढ़ते से घटते क्रम की ओर पेश कर रहे हैं. 

फील्ड मार्शल (Field Marshal)

यह भारतीय सेना की सबसे बड़ी लाइन है जो बहुत ही दुर्लभ से अधिकारियों को प्राप्त होती है.  किस रैंक तक पहुंचने के लिए आयु तथा आय के आधार पर अधिकारियों का निर्धारण नहीं किया जाता अपितु अधिकारियों द्वारा किसी मिशन में फिर आप सफलता के पश्चात ही विशेष  रैंकपर उस अधिकारी को स्थान दिया जाता है. अभी तक केवल दो ही भारतीय  आर्मी अधिकारियों को यह रंग दी गई है. किस रैंक पर आयुक्त अधिकारी के कंधे पर लगे निशान में एक अशोक चक्र. अशोक सिंह. तथा तलवार का एक क्रॉस बना होता है

XN2JVSSMsOZjtNO 6YqCeoYbZ QgMCsEa0HDP3emH21vmXCYklxJtGpiqO qak7tzyhXbIdVSlEPPsVu
फील्ड मार्शल (Field Marshal)

जनरल(General)

भारतीय सेना में अधिकारी के तौर पर कार्यरत जवानों को सेवा के अंतिम पड़ाव तक आते-आते जनरल के पद पर आयुक्त कर दिया जाता है. यह भारतीय आर्मी का सबसे सर्वोच्च पद है. इस पद पर अधिकारी 3 साल तक कार्यरत रहते हैं. आमतौर पर 60 से 62 वर्ष की आयु में अधिकारी इस रैंक तक पहुंच जाते हैं. जर्नल पूरी सेना का प्रमुख होता है इसे commander-in-chief कहते हैं. जनरल(General) के कंधे पर लगे निशानों में एक अशोक स्तंभ, अशोक चक्र, 1 स्टार तथा एक क्रॉस लगा होता है.

hzSzzh9aKCc40k2t1r SKbpdU8BYU
जनरल(General)

लेफ्टिनेंट जनरल(Lieutenant General)

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर आसीन  इंडियन आर्मी में लगभग 32 वर्ष की सेवा करने के पश्चात किस पद पर पहुंचता है। Lieutenant General के कंधे पर लगे बैच के  में  एक अशोक चक्र, अशोक स्तंभ तथा एक क्रॉस लगा होता है।  लगभग 60 वर्ष की आयु तक पहुंचते-पहुंचते लेफ्टिनेंट जनरल का पद आर्मी अधिकारियों को प्राप्त हो जाता है। 

लेफ्टिनेंट जनरल(Lieutenant General)

मेजर जनरल(Major General)

मेजर जनरल(Major General) के पद पर पहुंचने के लिए अधिकारियों को लगभग 28 वर्ष तक इंडियन आर्मी में अधिकारी के पद पर कार्यरत रहना होता है।  लगभग 58 वर्ष की आयु तक पहुंचते-पहुंचते मेजर जनरल को रिटायर कर दिया जाता है।  मेजर जनरल के कंधे पर लगे निशान में एक अशोक चक्र, एक स्टार तथा अंत में एक क्रश लगा होता है।

niQWgf3ebG8w1TUwaYOL5ZelqaQzYWOi2Ak HWIuYtT9QELo0rrjzH4tylwTu7 ARHpYwKzUVkZU5ddkuLO0DEojyZEGccs5METVqJwntgl 7K2jA7 BbDD6jtP58jQ 3dzPacI0WV4S9NdxgUEMmkXsXrhw3Z1C5lM1XDb wGSvBmUyQek2UqVGOA
मेजर जनरल(Major General)

ब्रिगेडियर(Brigadier)

लगभग 25 सालों तक आर्मी में सेवारत रहने वाले अधिकारियों को अंत में ब्रिगेडियर के पद पर आसीन किया जाता है जिनकी रिटायरमेंट की आयु 56 वर्ष होती है। Brigadier को पहचानने के लिए उसके कंधे पर लगे अशोक स्तंभ के सिक्के, एक अशोक चिन्ह  तथा तीन सितारे की पहचान की जाती है। 

KAbhVhgyvsQ 87M Wa6LLb6oRoee9DHo5 dAqWZh1H7Qzl3O2hjwFbbzpGL9NeMQkj1ol1CMnWNBJHoyWOPt p3PF99ovjpbwtQZHdoGylLps8CAkpzGf9aLkRkcvmpTa8HJ8LnkQSpkvtuFdVAEdB1b7q9ZoIX3GO8 rQpLq7xq94qWgav ANPj Q
ब्रिगेडियर(Brigadier)

AWES Army Public School Teacher Recruitment 2022 Check Eligibility Criteria, last date @awesindia.com

कर्नल(Colonel)

कर्नल के पद पर पहुंचने के लिए लगभग 26 वर्ष तक इंडियन आर्मी में अधिकारी के पद पर कार्यरत रहना होता है, इसके अतिरिक्त 15 वर्ष कार्य करने के पश्चात अधिकारी कर्नल के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। कर्नल(Colonel) के कंधे पर लगे बैच के अंदर अशोक चिन्ह के साथ 5 मुंह वाले तो सितारे एक रेखा में लगे होते हैं।

A4tZPHw2Y1y9PFs6MHgcdIkdkMl1yvBj2b5XHfMTdUPsueXIOWlcFo638OlpdsgT3oRzF9xY DYLokw aqfnF5ogUh5acFV97Lj3pUeWCQMSIcXGDcsDXaFEYSzawjys1I7IaqwSjcu6IrNwn8WSeh 1xfAHN hRbg27ZBgkH QijKsrYsU1q 6tkw
कर्नल(Colonel)

 लेफ्टिनेंट कर्नल(Lieutenant Colonel)

लेफ्टिनेंट कर्नल(Lieutenant Colonel) के पद पर पहुंचने के लिए लगभग 13 वर्ष कार्यरत होने के पश्चात part D एग्जाम को पास करना जरूरी है. इसके अतिरिक्त इस पद पर पहुंचने के पश्चात ऊपर के अन्य पदों पर भी प्रमोशन होता है. इनकी पहचान कंधे पर लगे अशोक chin तथा पांच हुए सितारे के तौर पर होती है.

JF0eM341VtYUx80SdItrzu6Ca RrPstv9taL6b8KHFNAkFq8onKiDI4JJx9kTRoxO1
लेफ्टिनेंट कर्नल(Lieutenant Colonel)

 मेजर(Major)

लगभग 6 वर्ष तक आर्मी में कार्य करने के पश्चात आर्मी कर्मचारी तथा अधिकारी मेजर के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं जिसके लिए उनको part B  एग्जाम को पास करना होता है.  उनके कंधों पर लगे  निशान के अंदर एक अशोक चिन्ह होता है.

OnDQjAulSlN08Z4QK btZ7Js3 b5wEAq6l7KLWHI1ZM480Wzw QYx6w1EF IUJh9lDwf50hHlwt06v7XerAcDbQ5H5fMmi ACrVzlhnaGMGcV0WzMaRXQVly2Zjo2l6QtaCWUeld7H0mBqEtyHpOddLbQaZHe1X6rQeRdbO4igDMFy2uG9i31YiVDQ
 मेजर(Major)

कैप्टन(Captain)

लगभग 2 साल तक कमीशन ऑफिसर के तौर पर काम करने के पश्चात उसको कैप्टन के पद पर प्रमोशन कर दिया जाता है.  कैप्टन के कंधों पर लेकर निशानों में तीन सितारे एक ही रेखा में ऊपर से नीचे लगे होते हैं जिनमें से प्रत्येक के पांच किनारे होते हैं.

9U5PrUMcm9rIW51aHHDClJnKmjvzpbVUc7SwaoplR7l7hOLBJstYDQit84G8JIWVM9wjtzyqMm3BbFPBkQziNpRJDI1MAs4Tbdbd H R WcOmlVGvYqmcneobW44D15852wvyLz DqWhPgRIwi GNfQ
कैप्टन(Captain)

लेफ्टिनेंट(Lieutenant)

इंडियन आर्मी में अधिकारी के पद पर आसीन होने के पश्चात यह पहला प्रमोशन हो जाए इसमें लेफ्टिनेंट का आर्डर अधिकारियों को दिया जाता है. उनके कंधों पर ले के निशानों में पांच मुंह के दो सितारे एक ही देखा में ऊपर से नीचे की ओर लगे होते हैं.

Y3oFY5IWfRQgUA9gBNObRXtuD8h3MVkVIYXZrC7OF7LPQ 9VIAOaoYZVIRVYaELw0hDALX PjCo0RqH6XURVAvfsqhPKmwE4B2Yelw5TFhUY7y5q5g nckcA2e7Vy7 FCUN1YPTP6osVzIuQEpUUn39m9JKtdb28NUSe9CMelDktfC RVk8TBmsTyQ
लेफ्टिनेंट(Lieutenant)

ऑफिसर कैडेट(Assistant cadet)

 भारतीय सेना में अधिकारी  की परीक्षा को पास करने के पश्चात IMA  के अंदर अधिकारी की ट्रेनिंग दी जाती है.  ट्रेनिंग लेने वाले इन्हीं उम्मीदवारों को ऑफिसर कैडेट किया जाता है जो ट्रेनिंग लेने के पश्चात लेफ्टिनेंट बन जाते हैं.  ट्रेनिंग के दौरान संबंधित संस्थान यह एकेडमी का बैच ऑफिसर कैरेट को अपने कंधों पर लगाना होता है जो ट्रेनिंग खत्म होने के पश्चात वापस हटा लिया जाता है.

जूनियर कमिश्नर ऑफिसर (Junior Commissioned Officers (JCO))

 कमिश्नर ऑफिसर के पश्चात अब हम आपके साथ साझा करेंगे जूनियर कमीशन ऑफिसर की रैंक लिस्ट. जूनियर कमिश्नर ऑफिसर की  रैंक लिस्ट बी कमीशन ऑफिसर ही की तरह काफी लंबी होती है और इनके कंधों पर भी लगे निशानों से इनको आसानी से पहचाना जा सकता है.

 सूबेदार मेजर(Subedaar Major)

34 वर्ष तक आर्मी में सेवा देने के पश्चात आर्मी सैनिकों को सूबेदार मेजर के पद पर पहुंचाया जाता है जो कि 54 वर्ष की आयु तक अपनी सेवा को देते हैं. सूबेदार मेजर के कंधे पर एक अशोक चिन्ह होता है तथा उसके ठीक नीचे एक लाल रंग की पट्टी होती है जिस पर पीले रंग की एक और छोटी पट्टी लगी होती है.

zI7yCquHO123F2PmHGZ Yfs3IY3i0Rl7OTNyPE97EQ TqzK y01YnevXTXAz2YL7Cm9jEsvsRg8vQkXmx4qSKRB s1FnAa5RPNwNBIGehzPGnQ3iNqZp8bq CCaBOGebcLgomFArvV96w48fr2WlvjS97pL2EBoh7wptTeoU7 c5wUtwPB3BXG8Wzg
सूबेदार मेजर(Subedaar Major)

 सूबेदार(Subedar)

सूबेदार के पद पर आसीन  आर्मी अधिकारी 52 वर्ष की आयु तक अपनी सेवाएं देते हैं तथा इसके बाद रिटायर हो जाते हैं. किस पद पर पहुंचने के लिए इंडियन आर्मी में कर्मचारियों को लगभग 28 वर्ष तक अपनी सेवाएं निरंतर देनी होती है जिसके पश्चात ही उनका प्रमोशन किया जाता है.  उनके कंधे पर लगे निशान में पांच मुंह दो सितारे लगे होते हैं जिनके बीच में अशोक चिन्ह लगा होता.

4gd05mjAhXZtYPmi L9hJMj9XQbNhfvOvxiNNu6dnbE85zim M QwqLnZdKN3QwDgD3inXC CfwlkNR7Bst5ZphTiWRX09ee6 cts hRHsY3GGrsGfBtJbcQ rgetE7pNG
सूबेदार(Subedar)

नायब सूबेदार(Nayab Subedaar)

नायब सूबेदार भी लगभग 28 वर्ष की सेवा इंडियन आर्मी में देने के पश्चात इस पद पर पहुंचाया जाता है जो कि 52 वर्ष की आयु तक अपनी सेवाएं भारतीय सेना को देते हैं. कंधे पर पांच मुंह वाला एक सितारा होता है जिसके बीचों-बीच अशोक चिन्ह लगा होता है .इसके  साथ ही एक लाल रंग की पट्टी होती है जिस पर पीले रंग की छोटी पट्टी लगी होती है.

ZvAmpNnCnn68fSstBYYdxND8KjHZluDRKnCin58nrJOFfyfzhVW4wNcUz7Ddu9C6 AkNZV5hkS6J06CmIzE8mNBBPzf2HJoH9H5shmzQpGb CKfHQKitZDgZvHyf3GNbfZCP368TiY rGAqwY08pUtqsrMBrx hOWi LH65etB7pvO53t5po1MVMag
 नायब सूबेदार(Nayab Subedaar)

नॉन कमीशंड ऑफिसर

 हवलदार

भारतीय सेना में लगभग 26 वर्ष तक अपनी सेवाएं देने के पश्चात या लगभग 49 वर्ष की आयु तक पहुंचने के पश्चात हवलदार के पद के लिए प्रमोशन कर दिया जाता है.  हवलदार की वर्दी पर 3 chevrons एक के ऊपर एक लगे होते हैं.

0IOChh4uACgsMLJ 9G2hL q1yMGXI9cyyKcEbIdbIY5CBbxUgBPxk15na kGiEZ23YKJrQqpwNVKXFgiA7oqEv0KjVCasAr842SY FFp46tASGxRdWlpQFF1uGzAtlwHq8NQZs7QOVkuSxPu8r2PS1EQx1 nit3jHIhVeoIgE9hQZd8Rm08C2 VUIQ

 नायक

लगभग 23 साल  भारतीय सेना में सेवाएं देने या 49 वर्ष की आयु तक पहुंचने पर सैनिकों को नायक की उपाधि दी जाती है.  नायक की वर्दी पर 2 chevrons  लगे होते हैं जिनमें लाल और पीले रंग का कॉन्बिनेशन होता है.

XdHuKV4aGIdcsO4rmjYxXjpxWtqYy9KN1vylkyniRIH5Ez96X740Poo0GKIwgeOnT5Tz87TTcjlC6SFFVKjdUgs3Wra6HM0dFy2 Qg 0XYBKH3spWltDXvkdxB6a7XKjMhtRIaTqhzms18RFpQ08bAMfKoQU

 लांस नायक

लगभग 18 वर्ष तक लगातार आर्मी में सेवा देने के पश्चात सैनिकों को लांस नायक के पद पर आसीन करा जाता है.  उनके कंधे पर1  chevrons लगा होता है.

 सिपाही

सिपाही के पद पर आसीन सैनिक 56 वर्ष की आयु तक अपनी सेवाएं देता है इनके कंधे पर प्लेन लगा बेज  होता है.

Home PageClick Here