Atal Pension Yojana Rules में बड़ा बदलाव, 1 अक्टूबर 2022 से Income Tax देने वाले नहीं ले सकेंगे लाभ

Atal Pension Yojana Rules Update: Atal Pension Yojana एक सरकारी गारंटीकृत पेंशन योजना (government guaranteed pension scheme) है, जिसे PFRDA द्वारा प्रबंधित किया जाता है। अभी तक 18 साल से 40 साल तक के सभी लोग इस योजना का लाभ उठा सकते थे। इसका लाभ किसी भी Bank या Post Office से लिया जा सकता है। इस योजना के तहत, ग्राहक को उसके योगदान के आधार पर 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद हर महीने 1000 रुपये से 5000 रुपये तक की गारंटी पेंशन (Pension) मिलती है। ग्राहक की मृत्यु होने पर योजना का लाभ उसके नामांकित व्यक्ति को जाता है

Atal Pension Yojana Rules

अगर आप मोदी सरकार की पेंशन योजना अटल पेंशन योजना (Modi government’s pension scheme Atal Pension Yojana) में शामिल होना चाहते हैं लेकिन Income tax भरते हैं तो आपके लिए खबर है। वित्त मंत्रालय (Finance Ministry ) ने अटल पेंशन योजना (Atal Pension Scheme) की सदस्यता के नियमों में बड़ा बदलाव किया है। जो लोग 1 अक्टूबर 2022 के बाद इनकम टैक्स का भुगतान (pay income tax ) करते हैं, जो Atal Pension Yojana (APY) में निवेश नहीं कर पाएंगे।

Atal Pension Yojana में करदाता नहीं कर सकेंगे निवेश

अटल पेंशन योजना में निवेश के नियमों में बदलाव को लेकर वित्त मंत्रालय ने gazette notification भी जारी किया है। वित्तीय सेवा विभाग की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि 1 अक्टूबर 2022 से कोई भी नागरिक जो आयकर का भुगतान कर रहा है या आयकर का भुगतान कर रहा है, वह अटल पेंशन योजना की सदस्यता नहीं ले सकता है।

अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि यदि कोई व्यक्ति 1 अक्टूबर, 2022 को या उसके बाद Atal Pension की सदस्यता लेता है और यह पाया जाता है कि वह व्यक्ति आवेदन करने के दिन या उससे पहले आयकर का भुगतान कर रहा है, तो उसका पेंशन खाता होगा बंद । और उस व्यक्ति ने निवेश से जो भी पेंशन निवेश से इकठ्ठा किया है उसे वापस लौटा दिया जाएगा

Atal Pension Govt Scheme (APY) को वित्तीय वर्ष 2015-16 में शुरू किया गया था। यह योजना उन लोगों के लिए शुरू की गई थी जो किसी अन्य सरकारी पेंशन (Sarkari Pension) का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। केंद्र की मोदी सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को ध्यान में रखते हुए Atal Pension Yojna की शुरुआत की थी। बाद में, 18 से 40 वर्ष के बीच का कोई भी भारतीय नागरिक इस योजना में अपना पंजीकरण करा सकता है। लेकिन सरकार ने 1 अक्टूबर 2022 से इस योजना में संशोधन किया है।

4 करोड़ लोग शामिल हुए

31 मार्च 2022 तक इस योजना के सब्सक्राइबर्स की संख्या 4.01 करोड़ हो गई थी। 2018-19 में इस योजना से 70 लाख ग्राहक जुड़े थे। इसके बाद 2020-21 में 79 लाख लोग इस योजना में शामिल हुए। अब 2021-22 में इस योजना से जुड़ने वालों की संख्या 1 करोड़ के पार पहुंच गई है। Pension Fund Regulator (PFRDA) के मुताबिक, financial year 2021-22 में अब तक 40 मिलियन से ज्यादा सब्सक्राइबर हो गए हैं।

Atal Pension Yojana Rules
Atal Pension Yojana Rules

हर महीने मिलेगी 5000 रुपये की पेंशन

इस योजना में 60 वर्ष की आयु के बाद पेंशन मिलती है। आपको जो Pension मिलती है वह आपके निवेश पर निर्भर करती है। Atal Pension Scheme में आपको हर महीने न्यूनतम मासिक पेंशन 1,000 रुपये से अधिकतम 5,000 रुपये तक मिलती है।

इस मामले में खाता बंद हो जाएगा (ATAL PENSION YOJANA ACCONT CLOSED)

अधिसूचना के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति 01 अक्टूबर को या उसके बाद Atal Pension Yojana का लाभ लेता है, और बाद में यह पाया जाता है कि वह आवेदन की तिथि को या उससे पहले किसी भी समय आयकर दाता की श्रेणी में रहा है, तो इस में ऐसी स्थिति में उनका अटल पेंशन योजना खाता बंद (Atal Pension Yojana account will be closed) कर दिया जाएगा। ऐसे व्यक्तियों को अटल पेंशन योजना खाता बंद होने की तिथि तक जमा की गई पेंशन की राशि तत्काल दी जाएगी। इसके बाद उनका अटल पेंशन योजना खाता बंद हो जाएगा।

Sarkariiyojana HomepageClick Here
close button