Char Dham Yatra : चार-धाम यात्रा 3 मई से शुरू, 31 मई तक कराएं रजिस्ट्रेशन

Char Dham Yatra : तीन मई से शुरू होने वाली चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra) के लिए उत्तराखंड सरकार ने तीर्थयात्रियों की संख्या की दैनिक सीमा तय की है। बद्रीनाथ में प्रतिदिन 15,000, केदारनाथ में 12,000, गंगोत्री में 7,000 और यमुनोत्री में 4,000 तीर्थयात्रियों को अनुमति दी जाएगी। यह व्यवस्था 45 दिनों के लिए की गई है। तीर्थयात्रियों के लिए इस वर्ष एक COVID-19 टीकाकरण प्रमाण पत्र ले जाना अनिवार्य नहीं है।

3 मई से शुरू हो रही Char Dham Yatra

कोरोना महामारी के दो साल बाद चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra) को लेकर लोगों में भारी उत्साह है। इस बार चार धाम यात्रा बड़ी संख्या में होने की सम्भावना है। 3 मई के दिन गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने की सम्भावना है। वहीं केदारनाथ के कपाट 6 मई से खुल रहे हैं और बद्रीनाथ के कपाट 8 मई से खुल रहे हैं। 3 मई से शुरू हो रही चारधाम यात्रा (Char Dham Yatra) में पहले 45 दिनों के लिए श्रद्धालुओं की संख्या निर्धारित की गई है।

Char Dham Yatra केदारनाथ में एक दिन में 12 हजार श्रद्धालु

केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) में 12 हजार, बद्रीनाथ में 15 हजार, गंगोत्री में सात हजार, यमुनोत्री धाम में एक दिन में चार हजार श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे. तीन से 31 मई तक चारधाम यात्रा के लिए 2.29 लाख से अधिक यात्रियों ने पंजीकरण कराया है।

चारधाम यात्रा के लिए 31 मई तक रजिस्ट्रेशन

  • केदारनाथ 85456
  • बद्रीनाथ 64157
  • गंगोत्री 39229
  • यमुनोत्री 39542

रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक यातायात प्रतिबंधित रहेगा

चारधाम यात्रा (Char dham Yatra) पर आने वाले तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के लिए रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक यात्रा मार्गों पर वाहनों के आवागमन पर रोक रहेगी। इसके अलावा यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए पर्यटन विभाग के पोर्टल पर पंजीकरण अनिवार्य होगा। चारधाम यात्रा (Char dham Yatra) के दौरान कोविड के व्यवहार का पालन करना होगा।

Contact Details

  1. support-ucdb[at]uk[dot]gov[dot]in
  2.   0135-2741600
close button