Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

Driving License New Rules: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के बदल गये हैं नियम, अब देना होगा यह सर्टिफिकेट

Driving License New Rules: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए सरकार ने नए नियम बना दिए हैं। अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको RTO (Regional Transport Office) के चक्कर काटने की जरूरत नहीं होगी। इस नए बदलाव से उन करोड़ों लोगों को राहत मिलेगी जो अपने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए RTO की वेटिंग लिस्ट में पड़े हैं। नए नियम के अनुसार, अब आपको किसी तरह का कोई ड्राइविंग टेस्ट RTO जाकर देने की जरूरत नहीं होगी। केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्रालय ने इन नियमों को जारी कर दिया है. नियम इसी महीने से लागू हो सकते हैं।

मंत्रालय की ओर से सूचित किया गया है की जो लोग ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना चाहते हैं उन्हें अब RTO में अपने टेस्ट का इंतजार नहीं करना होगा। अब वो लोग ड्राइविंग लाइसेंस के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल (Driving Training School) में अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल से ट्रेनिंग लेनी होगी और वहीं पर टेस्ट को पास करना होगा। ट्राइंग के बाद स्कूल की ओर से एप्लीकेंट्स को एक सर्टिफिकेट दिया जाएगा. इसी सर्टिफिकेट के आधार पर आवेदक का ड्राइविंग लाइसेंस बनेगा।

Driving License New Rules

ट्रेनिंग सेंटर्स(Training Center) को लेकर सड़क और परिवहन मंत्रालय (MORTH) की ओर से कुछ गाइडलाइंस जारी की गयी हैं। आइये जानते है इसके बारे में :

  1. लाइसेंस देने वाली कंपनी के पास दोपहिया, तिपहिया और हल्के मोटर वाहनों के ट्रेनिंग के लिए कम से कम 1 एकड़ जमीन होनी चाहिए। मध्यम और भारी यात्री माल वाहनों या ट्रेलरों के लिए सेंटर्स के लिए दो एकड़ जमीन होनी चाहिए।

2. ट्रेनर के पास कम से कम 12वीं कक्षा पास का सर्टिफिकेट होना जरुरी है और उसे कम से कम पांच साल का ड्राइविंग अनुभव होना चाहिए। ट्रेनर के पास यातायात नियमों का अच्छी तरह ज्ञान हो।

3. सड़क और परिवहन मंत्रालय (MORTH) ने एक शिक्षण पाठ्यक्रम भी निर्धारित किया है। हल्के मोटर वाहनों के लिए पाठ्यक्रम की अधिकतम अवधि 29 घंटों या 4 हफ्ते होगी। इन ड्राइविंग सेंटर्स(Driving Center) के पाठ्यक्रम को थ्योरी और प्रैक्टिकल 2 हिस्सों में बांटा जाएगा।

4. इसके अनुसार लोगों को अब पूरी तरह से गाड़ी चलना सीखने के लिए 21 घंटे खर्च करने होंगे। थ्योरी हिस्सा पूरे पाठ्यक्रम में 8 घंटे शामिल होगा।

नवीनतम जानकारी के लिए sarkariiyojana.in को बुकमार्क करें।

close button