Input Subsidy: इन 13 लाख किसानों के खाते में सरकार ने भेजा 18000 रुपए तक का मुआवजा

Input Subsidy: पिछले साल की अपेक्षा इस साल कर्नाटक में 87% अधिक बारिश होने से खेतों में फसलें खराब हो गयी। इसके अलावा, रबी सीजन की फसल बुवाई में भी देरी हुई। इस साल बाढ़ और भूस्खलन की वजह से लगभग 10.23 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों की बर्बादी का आंकड़ा सामने आया है। मौसम विभाग का कहना है कि इस सीजन में औसतन 173 मिमी ही बारिश होती है, लेकिन इस साल 1 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच राज्य में 322 मिमी बारिश हुई है और राज्य में 60 वर्ष बाद 87% ज्यादा बारिश हुई है।

बारिश के कारण किसानों की फसलों का बहुत नुकसान हुआ लेकिन सरकार ने इस समस्या का समाधान भी निकाला है। किसानों की फसल के नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार द्वारा 13.30 लाख किसानों के बैंक खाते में 853 करोड़ रुपए भेजे गए हैं और ऐसा देश में पहली बार हुआ है, जब केवल महीने भर के अंदर ही किसानों के खाते में मुआवजे की राशि भेजी गई है। किसानों को आर्थिक रूप से समृद्ध और आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार योजनाओं का बेहतर तरीके से कार्यान्वयन कर रही है। किसानों के बैंक खाते में पैसे आने से किसानों के हुए नुकसान की भरपाई की जा सकती है साथ ही किसान अपनी अगली फसल पर भी ध्यान दे सकते हैं।

Input Subsidy के तहत किसानों के बैंक खाते में भेजी गयी मुआवजे की राशि

कर्नाटक में भारी बारिश के कारण फसलों का नुकसान झेलने वाले किसानों को राज्य सरकार की तरफ से राहत दी गयी है। कर्नाटक सरकार द्वारा पहली बार फसल नुकसान के एक महीने के अंतराल में ही 13.30 लाख किसानों को इनपुट सब्सिडी दी गयी है और सभी किसानों के बैंक खातों में 853 करोड़ रुपए भेज दिए गए हैं। राज्य सरकार ने मुआवजे की यह राशि इनपुट सब्सिडी डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर स्कीम के अंतर्गत जमा कराई है। किसानों को फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए राज्य सरकार द्वारा अधिकतम मुआवजा 18000 रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से दिया गया है।

कृषि विभाग का कहना है कि बारिश पर निर्भर फसलों के लिए 6800 रुपये, सिंचिंत फसलों के लिए 13,500 रुपये और बारहमासी होने वाली फसलों के लिए 18,000 रुपए की सहायता राशि प्रति हेक्टेयर के अनुसार किसानों के बैंक खातों में भेजे गए हैं। ज्यादातर सरकारी योजनाओं के तहत केंद्र सरकार से फंड मिलने के बाद ही किसानों को वित्तीय सहायता राशि दी जाती है, लेकिन कर्नाटक राज्य में बारिश के कारण हुए नुकसान में इस बार ऐसा नहीं किया गया।

इस साल राज्य सरकार ने केंद्र सरकार की ओर से सहायता राशि जारी होने का इंतजार ना करते हुए राज्य स्तर पर ही किसानों को तुरंत वित्तीय सहायता पहुंचाई है, ताकि किसान परेशान ना हों और अपनी अगली फसल की बुवाई के लिए तैयारी कर सकें, क्योंकि इससे पहले किसानों को सहायता राशि के लिए बहुत इंतजार करना पड़ता था।

अलग-अलग स्तर पर किया गया नुकसान का सत्यापन और फिर 12 चरणों में भेजी गयी मुआवजे की राशि

कर्नाटक राज्य में हुए फसल नुकसान का विभिन्न स्तरों पर सत्यापन किया गया और उसके बाद ही किसानों के बैंक खातों में सहायता राशि भेजी गयी है। किसानों का भूमि और आधार नंबर के आधार पर प्राप्त जानकारी को वेरीफाई किया गया। पहले से मौजूद डिटेल्स के आधार पर वेरिफिकेशन के बाद किसानों के बैंक खाते में सहायता राशि ट्रांसफर की गई। राज्य सरकार ने नुकसान से प्रभावित सभी किसानों को बारह चरणों में सहायता राशि भेजी है।

नवीनतम जानकारी को जानने के लिए sarkariiyojana.in बुकमार्क जरूर करें।

1 thought on “Input Subsidy: इन 13 लाख किसानों के खाते में सरकार ने भेजा 18000 रुपए तक का मुआवजा”

Comments are closed.

close button