26 लाख किसानों को मिली 1750 करोड़ रुपए की राशि

Rajiv Gandhi Kisan Yojana: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्योत्सव के अवसर पर सबसे अधिक वर्मी कम्पोस्ट का प्रयोग करने वाले किसानों को सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि किसानों की खुशहाली राज्य सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है।

Kisan Yojana

मुख्यमंत्री ने अपने निवास कार्यालय में देश के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व. Shri Rajiv Gandhi की जयंती ‘सद्भावना दिवस (Sadbhavna Diwas)’ के अवसर पर राजीव गांधी किसान न्याय योजना (Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana) की दूसरी किश्त और गोधन न्याय योजना (Godhan Nyay Yojana) के हितग्राहियों के खाते में 1750.24 करोड़ रूपए अंतरित किए।

  • सबसे ज्यादा वर्मी कंपोस्ट (vermi compost) उपयोग करने वाले किसानों (Farmers) का राज्योत्सव में होगा सम्मान
  • Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 2nd Installment में किसानों को 1745 करोड़ रूपए का भुगतान
  • गोधन न्याय योजना (Godhan Nyay Yojana) में 5.24 करोड़ रूपए का भुगतान
  • गोबर विक्रेताओं (dung vendors) को अब तक 158.24 करोड़ रूपए मिले

किश्त में किसानों को 1745 करोड़ रूपए का भुगतान

इस कार्यक्रम में Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana की दूसरी किस्त के रूप में किसानों के खातों में 1745 करोड़ रुपये और गाय के गोबर विक्रेताओं, महिला स्वयं सहायता समूहों और गौठान समितियों के खातों में 5 करोड़ 24 लाख रुपये जमा किए गए .

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि farmers को समर्थन मूल्य के साथ-साथ कर्जमाफी और इनपुट subsidy के कारण हमारे किसान कर्ज के बोझ ( overcoming the burden of debt ) से उबरकर आत्मनिर्भर हो गए हैं और अपने परिवारों की आर्थिक स्थिति में सुधार की दिशा में बढ़ रहे हैं। प्रदेश के 26 लाख से अधिक farmers के चेहरों पर अब खुशी नजर आ रही है।

किसानों के चेहरों पर खुशी

इस कार्यक्रम में Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana के तहत श्री बघेल ने खरीफ सीजन 2021 के लिए पंजीकृत 26 लाख 21 हजार 352 पंजीकृत किसानों के बैंक खातों में 1745 करोड़ रुपये की Input Subsidy की दूसरी किस्त Online माध्यम से हस्तांतरित की. इसी प्रकार इससे पहले 21 मई, 2022 को राज्य के किसानों को इस योजना की पहली किस्त के रूप में 1745 का भुगतान किया गया था।

Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana के शुभारंभ के बाद से अब तक किसानों को 14 हजार 665 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है, जिसमें आज 2nd Installment के लिए भुगतान की गई राशि भी शामिल है।

इस योजना के तहत Kharif 2019 में 18.43 लाख किसानों को 4 किश्तों में Input Subsidy के रूप में 5627 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था। इसी तरह, Kharif year 2020 के 20.59 लाख किसानों को 5553 करोड़ रुपये की इनपुट सब्सिडी दी गई थी। किसानों को फसल लागत मूल्य कम करने, उत्पादकता बढ़ाने, फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए है ।

Godhan Nyay Yojana के तहत मुख्यमंत्री ने गोबर विक्रेताओं को 2.64 करोड़ रुपये और गौठान समितियों और स्वयं सहायता समूहों को 2.60 करोड़ रुपये का भुगतान किया।
गोधन न्याय योजना की शुरूआत से लेकर अब तक गोबर बेचने वाले ग्रामीणों को 158.24 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। इसी प्रकार गौठान समितियों एवं स्वयं सहायता समूहों को अब तक 154.02 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है।

कृषि मंत्री श्री रवींद्र चौबे ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना और गोधन न्याय योजना के कारण छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ है। किसानों पर बैंकों का भरोसा बढ़ा है। उन्होंने कहा कि इस योजना के कारण पिछले तीन वर्षों में किसानों की संख्या में 8 लाख की वृद्धि हुई है. गांवों में खेतों की बिक्री थम गई है। किसान अब खेतों की खरीदारी कर रहे हैं। इन योजनाओं की शुरूआत एक क्रांतिकारी कदम है।

HomepageClick Here
close button