Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

LPG Cylinder Subsidy के लिए नए नियम, सिर्फ़ इन्हे मिलेगी, यहां देखें

LPG Cylinder Subsidy : केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले हफ्ते एलपीजी सब्सिडी (LPG Cylinder Subsidy) की घोषणा की थी जिससे उन करोड़ों भारतीय परिवारों को लाभ होगा जो मुद्रास्फीति की लगातार बढ़ती दरों से प्रभावित हैं। विशेष रूप से केंद्र के इस कदम से उन परिवारों को मदद मिलेगी जो प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) के तहत रजिस्टर्ड हैं।

LPG Cylinder Subsidy में मिलेगी 200 रुपये की सब्सिडी

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) के 9 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को 200 रुपये प्रति गैस सिलेंडर की सब्सिडी देंगे। इससे देश की महिलाओं को मदद मिलेगी। इससे सालाना करीब 6100 करोड़ रुपये का राजस्व प्रभावित होगा।

अब LPG Cylinder की कीमत कितनी होगी?

घरेलू औरकमर्शियल दोनों तरह के रसोई गैस सिलेंडरों की कीमतों में पिछले कुछ महीनों में लगातार बढ़ोतरी हुई है। राष्ट्रीय राजधानी में 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) की कीमत 1,003 रुपये है। हालांकि सरकार के फैसले के बाद प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) के लाभार्थियों को उनके बैंक खातों में 200 रुपये प्रति सिलेंडर की सब्सिडी दी जाएगी। इस सब्सिडी से लाभार्थियों के लिए घरेलू रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 803 रुपये प्रति यूनिट होगी।

Pradhan Mantri Ujjwala Yojana क्या है?

ग्रामीण और वंचित परिवारों को रसोई गैस उपलब्ध कराने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने 2016 में प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) की शुरुआत की थी। PMUY वेबसाइट में कहा गया है मई 2016 में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय (MOPNG) ने Pradhan Mantri Ujjwala Yojana को एक प्रमुख योजना के रूप में पेश किया जिसका उद्देश्य एलपीजी जैसे स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन को उपलब्ध कराना था। ग्रामीण और वंचित परिवार जो अन्यथा पारंपरिक खाना पकाने के ईंधन जैसे जलाऊ लकड़ी, कोयला, गोबर के उपले आदि का उपयोग कर रहे थे।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) का उद्देश्य गरीब परिवारों को स्वच्छ रसोई ईंधन या एलपीजी सिलेंडर रियायती दरों पर देना है। PMUY की वेबसाइट के अनुसार 25 अप्रैल 2022 को इस योजना के तहत लगभग 9.17 करोड़ एलपीजी कनेक्शन जारी किए गए थे।

close button