PM Awas Scheme में अब मिलेगी तिगुनी रकम? यहां जानिए सरकार की इस योजना के बारे में

PM Awas Scheme में अब मिलेगी तिगुनी रकम? यहां जानिए सरकार की इस योजना के बारे में : PM Awas Scheme (पीएम आवास योजना) की राशि को बढ़ाकर 4 लाख रुपये करने का प्रस्ताव किया गया है। अभी तक इस योजना (PMAY) के तहत सिर्फ एक लाख 20 हजार रुपये ही मिलते हैं। अगर आप भी प्रधानमंत्री आवास योजना ( PM Awas Scheme ) के लाभार्थी हैं तो यह आपके लिए बड़ी खबर है। अब इस विशेष योजना के तहत मकान बनाने के लिए चार लाख रुपये यानी पहले की तुलना में तीन गुना राशि देने का प्रस्ताव किया गया है. समिति ने कहा है कि आजकल मकान बनाने की लागत बढ़ गई है, इसलिए इस बारे में सोचा जा रहा है।

PM Awas Scheme : पीएम आवास योजना में अब मिलेगी तिगुनी रकम? यहां जानिए सरकार की योजना के बारे में

अब इस विशेष योजना के तहत मकान बनाने के लिए चार लाख रुपये यानी पहले की तुलना में तीन गुना राशि देने का प्रस्ताव किया गया है. समिति ने कहा है कि आजकल मकान बनाने की लागत बढ़ गई है, इसलिए इस बारे में सोचा जा रहा है। ऐसे में अब राशि भी बढ़ाई जानी चाहिए। अगर इस प्रस्ताव पर सहमति बन जाती है, तो लोगों को PM Awas Yojana के तहत पहले की तुलना में 3 गुना ज्यादा पैसा मिलेगा।

क्या बढ़ेगी पीएम आवास योजना की राशि?

झारखंड विधानसभा की प्राक्कलन समिति ने राज्य में प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana) के तहत आवास निर्माण के लिए 4 लाख रुपये की अनुशंसा की है। समिति के अध्यक्ष दीपक बिरुआ ने मानसून सत्र के अंतिम दिन प्राक्कलन समिति की रिपोर्ट सदन के पटल पर रखी। झामुमो विधायक दीपक बिरुआ का कहना है कि हर सामान के दाम बढ़े हैं। दरअसल, रेत, सीमेंट, रॉड, ईंट, गिट्टी की महंगाई से ग्रामीण इलाकों में प्रधानमंत्री आवास योजना (PM Awas Scheme) के तहत बन रहे मकानों की लागत बढ़ गई है। इसलिए राशि को बढ़ाया जाना चाहिए।

केंद्र सरकार और राज्य सरकार से निवेदन

बिरुआ ने कहा कि बीपीएल (BPL) परिवार अपनी ओर से 50 हजार से 1 लाख रुपये नहीं दे पा रहे हैं. ऐसे में केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से चल रही पीएम आवास योजना (PM Awas Yojana) के तहत बन रहे मकानों की लागत 1.20 लाख रुपये से बढ़ाकर 4 लाख रुपये की जाए, ताकि व्यावहारिक रूप से मकान बन सकें और इसके लिए लोग आगे आएं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार राज्य का हिस्सा बढ़ाने पर विचार कर सकती है. प्राक्कलन समिति में विधायक बैद्यनाथ राम, नारायण दास, लम्बोदर महतो और अंबा प्रसाद सदस्य थे।

PMAY योजना की विशेषताएं और लाभ

PM Awas Yojana योजना के तहत, सब्सिडी ब्याज दर 6.50% प्रति वर्ष प्रदान की जाती है। सभी लाभार्थियों को 20 वर्ष की अवधि के लिए आवास ऋण पर सब्सिडी दी जाती है। भूतल के आवंटन में निःशक्तजन एवं वरिष्ठ नागरिकों को वरीयता दी जायेगी। निर्माण के लिए सतत और पर्यावरण के अनुकूल प्रौद्योगिकियों का उपयोग किया जाएगा। इस योजना (PM Awas Scheme) में देश के संपूर्ण शहरी क्षेत्रों को शामिल किया गया है जिसमें 4041 सांविधिक कस्बों को शामिल किया गया है, जिसमें प्रथम श्रेणी के 500 शहरों को प्राथमिकता दी गई है। यह 3 चरणों में किया जाएगा। पीएम आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Scheme) का क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी (Credit Link Subsidy Scheme) पहलू भारत में सभी वैधानिक शहरों में प्रारंभिक चरण से ही लागू हो जाता है।

PMAY के तहत लाभार्थियों की पहचान और चयन

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी योजना (PM Awas Yojana Urban) मुख्य रूप से शहरी गरीबों की आवास आवश्यकताओं को पूरा करती है। यह योजना अपर्याप्त बुनियादी ढांचे, खराब स्वच्छता और पीने की सुविधाओं के साथ झुग्गी-झोपड़ियों के सीमित क्षेत्रों में रहने वाले झुग्गी-झोपड़ियों के निवासियों की आवास आवश्यकता को भी पूरा करती है। PMAY-U के लाभार्थियों में मुख्य रूप से मध्यम आय समूह (MIG), निम्न-आय समूह (LIG) और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) शामिल हैं।

जबकि EWS श्रेणी के लाभार्थी योजना (PM Awas Scheme) के तहत पूर्ण सहायता के लिए पात्र हैं, एलआईजी और एलआईजी श्रेणियों के लाभार्थी केवल PMAY के तहत क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना (CLSS) के लिए पात्र हैं। योजना के तहत एलआईजी या ईडब्ल्यूएस लाभार्थी के रूप में पहचाने जाने के लिए, आवेदक को प्राधिकरण को आय प्रमाण के रूप में एक हलफनामा प्रस्तुत करना होगा।

नवीनतम अपडेट के लिए आप हमारी साइट सरकारीयोजना को बुकमार्क करें।

Leave a Comment