खुशख़बरी: 29 लाख किसानों को मिलेगा इस नई योजना का लाभ, जानें- क्या हैं खासियतें

PM Kisan Samman Nidhi Yojana की अगली क़िस्त/10वीं किस्त जल्दी आने वाली है, लेकिन उससे पहले ही सरकार द्वारा सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का उद्घाटन किया गया है। इस योजना से किसानों को अपनी फसल को सिंचित करने में लाभ होगा। इस योजना के तहत 14 लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा और लगभग 29 लाख किसान लाभान्वित होंगे। 11 दिसंबर, 2021 शनिवार के दिन PM Modi ने बलरामपुर में एक रैली के दौरान इसका शुभारंभ किया। मोदी ने किसानों को प्राकृतिक खेती अपनाने को कहा और कहा की इससे किसानों को न केवल पानी बचाने में मदद मिलेगी बल्कि इस योजना से बेहतर फसल भी पैदा होगी। सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना के निर्माण की कुल लागत 9800 करोड़ रुपयों से अधिक है।

PM मोदी ने पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा की सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना की लागत 50 साल पहले 100 करोड़ रुपये से भी कम थी, लेकिन इसे पूरा होते समय इसकी लागत बढ़कर 10,000 करोड़ रुपये हो गई। PM मोदी बोले की पहले की सरकारों की लापरवाही की 100 गुना ज्यादा कीमत देश को चुकानी पड़ी। अगर किसानों को इस योजना का लाभ पहले मिला होता तो वह सोना पैदा करता और देश लाभान्वित हो पाता।

मोदी ने अपने भाषण में कहा की “सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का पूरा होना इस बात का सबूत है कि जब सोच इमानदार हो तो काम भी दमदार होता है। उन्होंने कहा कि घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिणी की जलशक्ति अब इस क्षेत्र में विकास का नया दौर लेकर आने वाली है। वहीं सीएम योगी बोले कि PM मोदी ने सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना को पूरा करने का जो सपना देखा था, उससे अटल जी का सपना भी साकार हो रहा है। इस योजना से 9 जिलों की जनपदों की लगभग 14 लाख हेक्टेयर भूमि को सिंचाई का लाभ मिलेगा।

इस परियोजना के निर्माण की लागत 9800 करोड़ रुपयों से अधिक है. 4600 करोड़ रुपये से अधिक का प्रावधान पिछले चार वर्षों में किया गया। इस परियोजना में पांच नदियों (घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिणी) को आपस में जोड़ने का भी प्रावधान किया गया है, ताकि क्षेत्र के लिये जल संसाधन का समुचित उपयोग सुनिश्चित हो सके।

इसके अलावा देश के किसानों को 16 दिसंबर को प्राकृतिक खेती के संबंध में आयोजित विशाल कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भी प्रधान मंत्री ने आमंत्रित किया है। उन्होंने देश भर के किसानों से टीवी या कृषि विज्ञान केंद्रों के माध्यम से जुड़ने का अनुरोध किया। बता दें कि केंद्र की ओर से किसानों को पीएम किसान की 10वीं किस्त जारी की जानी है। यह रकम 15 दिसंबर के आसपास लाभार्थियों को सीधे उनके खाते में ट्रांसफर की जाएगी।

योजनाओं की जानकारी पाने के लिए sarkariiyojana.in को बुकमार्क करके सेव कर लें।

close button