Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

Rooftop Solar System : लाभ, लागत और आवेदन करने का तरीका देखें

Install Rooftop Solar System: भारत अभूतपूर्व बिजली संकट के बीच में है। घरेलू कोयले की कमी ने बिजली संयंत्रों में एक अनिश्चित स्थिति पैदा कर दी है, जिससे बिजली कटौती और आउटेज हो रहा है। देश ने हाल ही में राष्ट्रीय स्तर पर 5% की ऊर्जा की कमी देखी है, कुछ राज्यों ने और भी अधिक घाटे की रिपोर्ट की है। बढ़ते बिजली संकट ने वैकल्पिक बिजली स्रोतों पर नए सिरे से ध्यान दिया है।

ऐसी ही एक तकनीक-rooftop solar- आशाजनक होने के बावजूद, भारत में गंभीर रूप से कम उपयोग की गई है ।घर में सोलर पैनल लगवाना (solar panels installed) एक आकर्षक आइडिया लगता है। rooftop solar plant लगाने से उपभोक्ताओं और सरकार दोनों के लिए कई फायदे हैं। उदाहरण के लिए, वे बिजली के बिलों में कटौती करने में मदद कर सकते हैं और वे सरकार के हरित होने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के साथ भी जुड़ सकते हैं।

Rooftop Solar System

rooftop solar system कैसे कार्य करता है ?

सौर प्रौद्योगिकियां सूर्य के विकिरण को अवशोषित करती हैं और इसे ऊर्जा में परिवर्तित करती हैं। जब सूर्य सौर पैनल (solar panel) पर चमकता है, तो पैनल में फोटोवोल्टिक (पीवी) कोशिकाएं (photovoltaics (PV) cells ) सूर्य के प्रकाश को अवशोषित करती हैं, जिससे विद्युत प्रवाह बनाने में मदद मिलती है। rooftop solar plant से तात्पर्य उस जगह से है जहां solar panels आवासीय या व्यावसायिक भवन के ऊपर लगे होते हैं।

यहां रूफटॉप सोलर सिस्टम लगाने के फायदे और नुकसान हैं।

Pros

लागत बचत (Cost savings): यह पारंपरिक विद्युत आपूर्ति से सस्ता है और सरकारी सब्सिडी भी लागत को कम करने में मदद करती है।

कम रखरखाव शुल्क (Low maintenance charges): अधिकांश रूफटॉप सौर प्रणालियों की जीवन प्रत्याशा 25 वर्ष तक होती है और इसके लिए केवल बुनियादी रखरखाव की आवश्यकता होती है जैसे नियमित सफाई और मरम्मत।

कोई अतिरिक्त भूमि की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सौर पैनलों को स्थापित करने के लिए खाली छत की जगह का उपयोग किया जा सकता है।

कार्बन पदचिह्न में कमी (Reduction in carbon footprint): सौर ऊर्जा का एक स्वच्छ और नवीकरणीय स्रोत है जो ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने में मदद करता है।

Cons

सोलर पैनल हर तरह की छत के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। उदाहरण के लिए, पुराने घरों में प्रयुक्त स्लेट या देवदार की टाइलों पर उन्हें स्थापित करना कठिन हो सकता है।

चूंकि सौर एक बड़ा वित्तीय निवेश है, यह युवा घर मालिकों के लिए एक आदर्श विकल्प नहीं हो सकता है जो आने वाले वर्षों में आगे बढ़ सकते हैं।

rooftop solar system prices

रूफटॉप सोलर सिस्टम (rooftop solar system) लगाने की लागत इस्तेमाल किए गए मॉड्यूल और इनवर्टर की गुणवत्ता और कीमत के साथ बदलती रहती है। औसतन 1 kW rooftop solar system लगाने पर 45,000 रुपये से 85,000 रुपये के बीच खर्च हो सकता है। अगर बिजली का भंडारण करना है तो बैटरियों को अतिरिक्त खर्च करना पड़ेगा।

इसी तरह, 5 KW rooftop solar system प्रणाली की लागत 2,25,000 रुपये से 3,25,000 रुपये के बीच होगी। rooftop solar system को जेब पर हल्का माना जाता है क्योंकि उनकी लागत आमतौर पर 5-6 साल में वसूल की जा सकती है।

क्या कोई Rooftop Solar Subsidy हैं?

rooftop solar systems लगाने के लिए केंद्र सरकार उपभोक्ताओं को वित्तीय सहायता देती है। हालांकि, सब्सिडी केवल आवासीय संपत्तियों के लिए उपलब्ध है, न कि व्यावसायिक/औद्योगिक प्रतिष्ठानों के लिए।

Rooftop Solar Panel Subsidy का वर्गीकरण:

3 किलोवाट क्षमता तक – 40%

4-10 किलोवाट क्षमता – 20%

10 किलोवाट से अधिक – कोई सब्सिडी नहीं

GHS/RWA उपभोक्ताओं के मामले में, 500 kWp (प्रति घर 10 kWp तक सीमित) तक की कुल क्षमता के लिए 20% की सब्सिडी का प्रावधान है .

How to apply for a solar rooftop Yojana?

उपभोक्ता rooftop solar system के लिए अपने संबंधित Discom के ऑनलाइन पोर्टल के जरिए आवेदन कर सकते हैं।
सरकार ने योजना के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए एक toll-free helpline number भी शुरू किया है: 1800-180-3333

Install Rooftop Solar SystemClick Here
Home PageClick Here
close button