ख़ुशख़बरी: अब किसानों के बच्चों को सरकार देगी 11000 रुपये तक की Scholarship, जानें डिटेल 

Scholarship: कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने मछुआरों और बुनकरों के बच्चों के हित के लिए “रैथा विद्या निधि” (Chief Minister Raitha Vidya Nidhi) छात्रवृत्ति योजना को आगे बढ़ाने की घोषणा की है। इस योजना के तहत सरकार मछुआरों और बुनकरों के बच्चों की साक्षरता दर बढ़ाने और बेरोजगारी में कमी लाने का प्रयास कर रही है। देश में केंद्र और राज्य सरकारों ने हमेशा से ही कृषक समुदाय के कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। इसके तहत सरकार द्वारा “रायता विद्या निधि” समेत कई योजनाएं शुरू की गयी हैं।

Raitha Vidya Nidhi Yojana

इसके साथ ही साक्षरता दर बढ़ाने और बेरोजगारी कम करने के लिए, कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने मछुआरों और बुनकरों के बच्चों के लिए “रैथा विद्या निधि”(Raitha Vidya Nidhi) छात्रवृत्ति योजना को आगे बढ़ाने का ऐलान किया है। सीएम ने उडुपी जिले में एक कार्यक्रम दौरान जानकारी देते हुए कहा कि इस वर्ष भी मछुआरों और बुनकरों के बच्चों के लिए “रायता विद्या निधि”(Raitha Vidya Nidhi) छात्रवृत्ति योजना को बढ़ाये जाने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा सीएम ने जानकारी दी है कि मछुआरों के बच्चों को छात्रावास की सुविधा भी प्रदान की जाएगी ताकि उनकी उच्च शिक्षा में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत ना हो। साथ ही समाज कल्याण विभाग द्वारा मछुआरों के बच्चों के लिए छात्रावास की सुविधा प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा सीएम ने मछली पकड़ने को एक आकर्षक व्यवसाय बनाने पर केंद्र सरकार के कार्यक्रम की प्रशंसा की। राज्य सरकार ने मछुआरों को गहरे समुद्र में मछली पकड़ने वाली नावें प्रदान करेगी, और साथ ही राजीव गांधी आवास कार्यक्रम के तहत उनके लिए करीब 5,000 घर बनाए जाएंगे। इसके अलावा फिशिंग ग्राउंड का विस्तार करने के लिए राज्य के आठ बंदरगाहों पर मंदी का काम शुरू होगा।

11000 तक की Scholarship दी जाएगी

सीएम ने मछुआरों को दस महीने के लिए डीजल सब्सिडी भी प्रदान की है। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने जानकारी दी है कि “महिला स्वयं सहायता समूहों से एक एंकर बैंक को Connect किया जाएगा और साथ ही राज्य सरकार के महिला सशक्तिकरण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने हेतु करीब 1.50 लाख रुपये तक का ऋण दिया जायेगा।” इसके अलावा, एक official notice के अनुसार, “रायता विद्या निधि” छात्रवृत्ति कार्यक्रम 2022 के अंतर्गत, कर्नाटक सरकार द्वारा किसानों के बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए 2,000 रुपये से लेकर 11,000 रुपये तक की छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।

कैसे मिलेगा योजना का लाभ

छात्रों की शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति की धनराशि छात्रों के bank account में ट्रांसफर कर दी जाएगी। “रायता विद्या निधि” scholarship program, 7 अगस्त, 2021 को कर्नाटक सरकार द्वारा राज्य के किसानों और मछुआरों के परिवार से सम्बंधित बच्चों को scholarship देने और उनकी उच्च शिक्षा continue रखने के लिए एक सहायता के रूप में शुरू किया गया था।

इसके अलावा, सीएम बोम्मई ने घोषणा करते हुए कहा कि मछुआरों और किसान परिवार के बच्चों की Education में किसी भी प्रकार की problems ना आये इसके लिए छात्रों को छात्रावास की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि, समाज कल्याण विभाग द्वारा, मछुआरों के परिवार के सभी बच्चों को High education के साथ-साथ छात्रावास की भी सुविधा प्रदान की जाएगी.

close button