UP Ration Card Check 2021: यूपी में लाखों राशन कार्ड निरस्त , कहीं आपका नाम तो नहीं, चेक करें लिस्ट

UP Ration Card Check (लाखों राशन कार्ड निरस्त): गरीबों के राशन कार्ड से राशन लेने वाले तीन सौ से ज्यादा राशन कार्ड धारकों के राशन कार्ड रद्द कर दिए गए हैं। अब इन्हें सस्ती दरों पर राशन नहीं मिलेगा ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि इन लोगों ने तीन लाख से अधिक का गेहूं सरकारी खरीद केंद्रों पर बेंचा था और सस्ती दर पर राशन भी ले रहे थे।

राशन कार्ड निरस्त

इस संबंध में सरकार द्वारा जांच कराई गई थी, इस जांच के अनुसार जिले में करीब 1600 किसानों ने गेहूं बेचा था। इनमें से 372 किसान ऐसे थे जिन्होंने तीन लाख से अधिक कीमत का गेहूं बेचा और उनके पात्र गृहस्ति योजना के राशन कार्ड भी बने हैं जिस पर सस्ते दर पर राशन मिलता है। कोरोना काल में भी मुफ्त खाद्यान्न मिला है।

UP Ration Card Check करने के बाद उनके राशन कार्ड निरस्त कर दिए गए हैं। अब उन्हें नवंबर से सस्ते दर पर राशन नहीं मिलेगा। जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया है कि सरकार के आदेश पर 372 राशन कार्ड के राशन कार्ड रद्द किए जा चुके हैं. इनके पास से लिए गए खाद्यान्न की वसूली के लिए सरकार की ओर से कोई आदेश नहीं आया है। इस मामले में शासन के आदेश के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

जिन 372 कार्डधारकों के कार्ड रद्द किए गए हैं, उनमें से सबसे ज्यादा 119 भरथना के और सबसे कम 7 कार्डधारक बधपुरा ब्लॉक के हैं. ऐसे में अगर आप भी अपने राशन कार्ड की जांच करना चाहते हैं तो स्थानीय जिलाधिकारी कार्यालय व खाद्य आपूर्ति विभाग से संपर्क कर सकते हैं

UP Ration Card Check: राशन कार्ड कैंसिल होने पर क्या करें ?

कुछ लोगों के मन में सवाल होता है कि राशन कार्ड कैंसिल होने पर क्या करें? देखें कि क्या आप पात्र हैं लेकिन आपका राशन कार्ड गलती से रद्द कर दिया गया है, तो आप खाद्य विभाग में आवेदन करके अपने राशन कार्ड को फिर से सक्रिय कर सकते हैं। इसके लिए खाद्य विभाग द्वारा निर्धारित प्रपत्र एवं सत्यापन हेतु निर्धारित सभी दस्तावेज जमा करने होंगे।

लेकिन अगर आप अपात्र हैं और सत्यापन के दौरान आपको अपात्र पाया जाता है तो आपका राशन कार्ड रद्द कर दिया जाएगा। इसके बाद आप अपील नहीं कर सकते हैं। आपकी अपील के बाद भी आपका राशन कार्ड चालू नहीं होगा। इसलिए अपात्र व्यक्तियों का राशन कार्ड निरस्त होने पर दोबारा आवेदन न करें।

अंगूठा लगवाने के बावजूद राशन नहीं देने पर दुकान कैंसिल

कानपुर में नारवाल तहसील के लखनखेड़ा के कोटेदार की दुकान लाभार्थियों को राशन नहीं देने और शिकायतकर्ताओं को फर्जी शपथ दिलाने पर निरस्त कर दी गयी है. जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने बताया कि सतानंद पाल की राशन की दुकान थी शिकायत पर जांच की गई तो कई ग्रामीणों ने राशन व चीनी नहीं देने की शिकायत की

कुछ दिनों बाद कोटदार ने उन कुछ शिकायतकर्ताओं के हलफनामे अपने पक्ष में दिए। उसकी क्रॉस चेकिंग की गई तो लोगों ने हलफनामा नहीं देने की बात कही। कोटदार की ओर से दिया गया फर्जी हलफनामा ऐसे में उनकी दुकान रद्द कर दी गई है।

सभी प्रकार की राज्य एवं केंद्र सरकार की योजनाओं को जानने के लिए sarkariiyojana.in को बुकमार्क करें |