अब हर छात्र को बनानी होगी Unique ID, बिना इसके नहीं मिलेगा स्कूल में प्रवेश

UP School Child Unique ID : उत्तर प्रदेश के स्कूलों (UP School) में पढ़ने वाले बच्चों की अब एक अलग तरह से पहचान होगी। बेसिक शिक्षा विभाग बच्चों की यूनिक आईडी (Unique ID) बनाने जा रहे हैं। इस यूनिक आईडी के माध्यम से बच्चों की प्रगति के साथ साथ विद्यालय छोड़ने वालों की भी आसानी से पहचान हो सकेगी। इस यूनिक आईडी (Unique ID) के चलते स्कूलों में हो रहे बच्चों के एडमिशन को लेकर फर्जीवाड़े को रोका जा सकेगा।

यूपी में बनेगी बच्चों की Unique ID

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से करीब ढाई लाख स्कूल हैं। सरकारी व सहायता प्राप्त विद्यालयों की अपेक्षा निजी स्कूलों की संख्या काफी अधिक है। सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में कई योजनाएं चलाने के बाद भी बच्चे बीच में पढ़ाई छोड़ देते हैं। सरकार हर साल 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों की खोज में अभियान चलाती है।

यूपी में सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को मिल रही यह सुविधाएं

सरकारी व सहायता प्राप्त विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों का दाखिला निजी स्कूलों में भी है। हकीकत में करीब 7 करोड़ बच्चे कहां पढ़ रहे हैं इसका कोई आंकड़ा नहीं है। इस बीच बच्चों के अभिभावकों के खाते में यूनिफॉर्म, स्कूल बैग, जूता मोजा और स्वैटर का पैसा भी भेजा जा रहा है। इसके साथ मिडडे मील, मुफ्त पुस्तकें आदि भी बांटी जा रही है।

अब Unique ID के बगैर नहीं मिलेगा स्कूल में प्रवेश

योगी सरकार दूसरी बाद यूपी में सत्ता में आ चुकी है। योगी सरकार (Yogi Government) में मुख्यसचिव दुर्गा प्रसाद मिश्र ने बच्चों के लिए चाइल्ड ट्रैकिंग सिस्टम (child tracking system) बनाने पर विशेष जोर दिया गया है। इससे बच्चों की प्रगति और गतिविधि भी सामने आ सकेगी। अब स्कूल में दाखिला पाने वाले हर बच्चे की यूनिक आईडी बनाई जाएगी। 12 वीं तक की कक्षाओं में प्रवेश इसी यूनिक आईडी के आधार पर मिलेगा। विभाग जल्द से जल्द इसके लिए पोर्टल बनाने की सुविधा बनाई जा रही है।

close button