Youtube में हुए बदलाव से यूजर्स हुए प्रभावित

Youtube: वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यानि कि यूट्यूब ने घोषणा की है कि अब कुछ समय के बाद यूट्यूब पर अपलोड की गयी वीडियो पर कितने डिस्लाइक आये हैं, इनकी संख्या अब आपको नहीं दिखाई देगी। यूट्यूब कंपनी ने यह घोषणा अपने ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से की है। कम्पनी ने फैसला लिया है की अब केवल वही व्यक्ति ही वीडिओ के डिस्लाइक देख पायेगा जिसने वीडिओ अपलोड की है। अपने इस निर्णय को लेकर यूट्यूब कम्पनी ने कहा है कि, कई बार लोग किसी एक वीडियो को ही डिस्लाइक करते रहते हैं, जो यूट्यूब डिस्लाइक अटैक कहलाता है।अब किसी भी वीडिओ पर डिस्लाइक की संख्या सार्वजनिक तौर पर नहीं दिखाई जायेगी, हालांकि यूजर अभी भी किसी वीडियो को डिस्लाइक कर सकता है लेकिन इसे सिर्फ वीडिओ क्रिएटर अपने यूट्यूब स्टूडियो में जाकर देख सकेंगे।

यूट्यूब कंपनी इस पर परिक्षण काफी लंबे समय से कर रही थी लेकिन अब इसे धीरे-धीरे लाइव किया जा रहा है। यूट्यूब कंपनी का मानना है कि ऐसा करने से छोटे क्रिएटर्स को काफी सहायता मिलने वाली है क्योंकि उन्हें जान बूझकर बड़े क्रिएटर्स के द्वारा टारगेट किया जाता है और उनके वीडियोस पर डिसलाइकस बढ़ा दिए जाते हैं। यूट्यूब कंपनी के अनुसार वह क्रिएटर और व्यूवर्स के बीच सम्मानजनक इंटरेक्शन को प्रमोट करना चाहते हैं। इसी तरह की समस्या से परेशान होकर एक बार इंस्टाग्राम ने भी लाइक काउंट को हाइड कर दिया था। इंस्टाग्राम का भी यही मानना था कि बड़े क्रिएटर डिस्लाइक के माध्यम से छोटे क्रिएटर्स को टारगेट करते हैं। इसलिए डिस्लाइक काउंट को हटाना बाकि क्रिएटर्स को भी सहयोग देने में सहायक साबित होगा।

कम्पनी का कहना है कि उन्होंने डिसलाइक अकाउंट को प्राइवेट कर दिया है और अब सभी यूजर्स को डिस्लाइक का बटन दिखता रहेगा और यूजर्स उसे डिस्लाइक भी कर सकते हैं लेकिन कोई भी व्यक्ति यह नहीं देख पाएगा कि किसी वीडियो पर कितने डिसलाइक आये हैं। अब केवल वीडियो बनाने वाले और अपलोड करने वाले को ही यह पता रहेगा कि उसकी वीडियो को कितने लोगों ने नापसंद किया है या उसके वीडियो पर आये डिसलाइक की संख्या कितनी है। यूट्यूब का मानना है कि इससे पब्लिक शेमिंग को रोकने में भी सहायता मिलेगी।

राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं को जानने के लिए sarkariiyojana.in को बुकमार्क करें |