Cow Rearing Licence: गाय पालने के लिए लाइसेंस ऐसे लें, जुर्माने से बचें | वार्षिक लाइसेंस शुल्क

Cow Rearing Licence: राजस्थान सरकार द्वारा जारी किये गए आदेश के अनुसार अब शहरी क्षेत्रों में जानवर जैसे कि गाय या भैंस को घर में रखने के लिए अब सालाना लाइसेंस और 100 वर्ग गज क्षेत्र की जरूरत होगी। अगर किसी के जानवर बहार सड़कों पर भटकते हुए पाए जाते हैं, तो उन पर करीब 10,000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।

इसके साथ ही अधिकारियों ने जानकारी दी है कि बिना License के किसी भी व्यक्ति को अपने घर में एक से अधिक गाय और बछड़े रखने की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा मवेशियों के लिए अलग से एक समर्पित क्षेत्र भी अनिवार्य किया गया है। साथ ही नए नियम राज्य के सभी नगर निगमों और परिषदों के हर वर्ग पर लागू किये जायेंगे।

लाइसेंस के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया

  • नए नियमों के अंतर्गत License apply करने के लिए, सबसे पहले आवेदक को अपनी मवेशियों के लिए नियोजित किये गए स्थान का विवरण देना होगा और साथ ही साफ़ -सफाई का proof भी देना होगा और भविष्य में उन्हें रखने से कोई व्यवधान नहीं होना चाहिए।
Cow Rearing Licence
Cow Rearing Licence
  • उसके बाद आवेदक को 1000 हजार रुपये की License fee जमा करनी होगी जो कि वार्षिक लाइसेंस शुल्क होगा।
  • इसके अलावा, शैक्षिक, धार्मिक और अन्य जनहित संगठनों को केवल 50% शुल्क का भुगतान करना होगा।

इसके अलावा, एक घर में तय किये गए पशुओं की संख्या से अधिक पशुओं की संख्या होने पर लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा। इसके साथ ही अधिकारियों ने यह जानकारी भी दी है कि सभी मवेशियों को मालिक के नाम और नंबर के साथ टैग करना अनिवार्य होगा। License प्राप्त नहीं होने तक सभी public places में भी गाय के चारे की बिक्री पर प्रतिबंध रहेगा। बिना किसी अनुमति के चारे की बिक्री करने पर 500 रुपये का जुर्माना भी लगाया जाएगा।

जिन लोगो को मवेशियां रखनी है उन्हें मवेशियों को रखने के लिए 170 से 200 वर्ग फुट तक की एक ढकी हुई स्वच्छ जगह और 200 से 250 वर्ग फुट तक के खुले एरिया की जरूरत पड़ेगी। इसके अलावा, पशु मालिक को किसी भी Business Activity में शामिल होने की अनुमति नहीं होती है, जैसे कि दूध बेचना या मवेशियों के दूध से बने किसी भी उत्पाद को बेचना।

इसके साथ ही मवेशियों के लिए साफ-सफाई ना रखने पर 5000 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया जाएगा। इसके साथ ही हर 10 दिन में नगर निगम के बाहर के क्षेत्र में गाय के गोबर के निस्तारण की पूरी जिम्मेदारी पशुपालक की ही होगी। राज्य सरकार द्वारा तय किये गए गाय और बछड़े से ज्यादा पशुओं की संख्या होने पर license निरस्त कर दिया जाएगा।

एक ही गाय का पालन-पोषण कर सकेंगे, लागू हुआ नया नियम

अधिकारियों ने कहा कि बिना लाइसेंस (without a license) के एक घर में एक से अधिक गाय और एक बछड़ा रखने की अनुमति नहीं होगी। मवेशियों (cattle) के लिए अलग से निर्धारित जगह होनी चाहिए। नगर निगमों और परिषदों के तहत सभी क्षेत्रों में नए मानदंड लागू किए जाएंगे। नए मानदंडों के तहत लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, आवेदक को प्रस्तावित स्थान का विवरण देना होगा। साफ-सफाई का ध्यान रखना होगा और रखने में कोई गड़बड़ी नहीं होगी. वार्षिक लाइसेंस शुल्क (annual license fee) के रूप में 1,000 शुल्क लिया जाएगा। जनहित में काम करने वाले शैक्षणिक, धार्मिक और अन्य संस्थानों को आधी राशि देनी होगी।

बिना लाइसेंस चारा बेचने पर होगा जुर्माना: fine for selling fodder without a license

पशु मालिक दूध या उसके किसी उत्पाद (selling milk or any of its products) को बेचने जैसी कोई व्यावसायिक गतिविधि नहीं कर सकता है। साफ-सफाई के साथ कोई समझौता करने पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगेगा। पशुपालन की यह जिम्मेदारी होगी कि वह हर 10 दिन में नगर निगम क्षेत्र के बाहर गाय के गोबर (cow dung ) का निस्तारण करे। सार्वजनिक स्थानों पर गाय के गोबर को सुखाया नहीं जा सकता। बिना लाइसेंस के चारा बेचने पर 500 रुपये का जुर्माना (fine of Rs 500) भरना पड़ेगा

close button