Kanya Vivah Yojana 2022 : शादी के लिए बेटियों को 55,000 रुपये , जानें नए नियम और शर्तें

Kanya Vivah Yojana 2022 : मध्यप्रदेश सरकार द्वारा कन्या विवाह योजना (Kanya Vivah Yojana) चलाई जा रही है। इस योजना के चलते कई बेसहारा बेटियों की शादी के लिए आर्थिक रूप से मदद की जाती है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना (Mukhyamantri Kanya Vivah Yojana) की शुरुआत गरीबी रेखा से नीचे आने वाले राज्यों के परिवारों के लिए की गई है।

Kanya Vivah Yojana का उद्देश्य

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना (Mukhyamantri Kanya Vivah Yojana) का उद्देश्य गरीब, जरूरतमंद और निराश्रित परिवारों की बेटियों,विधवाओं,तलाकशुदा महिलाओं की शादी के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है। वर्ष 2006 में इसे मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के नाम से शुरू किया गया था लेकिन नवंबर 2015 में इसका नाम बदलकर मुख्यमंत्री कन्या विवाह और निकाह योजना कर दिया गया।

Kanya Vivah Yojana
Kanya Vivah Yojana

Kanya Vivah Yojana के कहते दी जाती है आर्थिक मदद

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना (Mukhyamantri Kanya Vivah Yojana) के तहत सामूहिक विवाह करने वाली सभी लड़कियों की शादी पर सरकार 51,000 रुपये खर्च करती है। इसके अलावा यह योजना आदिवासी क्षेत्रों में प्रचलित आदिवासी विवाह प्रणाली के साथ एकल विवाह का भी प्रावधान करती है। अब मध्यप्रदेश सरकार ने 51000 से बढाकर 55000 कर दिया है।

Kanya Vivah Yojana आवेदन करने की ऑनलाइन प्रक्रिया

  1. सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट mpvivahportal.nic.in पर जाएं।
  2. इसके बाद आवेदन पत्र के तहत दस्तावेज़ देखें बटन पर क्लिक करें।
  3. आवेदन पत्र स्क्रीन पर दिखाई देगा।
  4. उसके बाद मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना का फॉर्म डाउनलोड करें और उसका प्रिंट लें।
  5. फॉर्म लेने के बाद उसे पूरी तरह से भरें और जरूरी दस्तावेज अटैच करें।
  6. अंत में इसे आवश्यक दस्तावेजों के साथ कार्यालय नगर निगम या शहरी क्षेत्र में जमा करें।

Kanya Vivah Yojana के लिए जरुरी आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • वोटर आई कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • बालिका आयु प्रमाण पत्र
  • आवास प्रमाण पत्र
  • समग्र कोड
  • बीपीएल कार्ड
  • लड़की की पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना पात्रता मानदंड

  1. लड़की के माता-पिता मध्य प्रदेश के मूल निवासी होने चाहिए।
  2. शादीशुदा जोड़े में बेटी की उम्र 18 साल और होने वाले पति की उम्र 21 साल से कम नहीं होनी चाहिए।
  3. इसके अलावा समग्र मैरिज पोर्टल पर भी लड़की का नाम दर्ज होना चाहिए।
  4. विधवा महिला जो बेसहारा है और आत्म-विवाह के लिए आर्थिक रूप से सक्षम नहीं है।
close button