Mahila Nidhi Yojana: बड़ी खबर ! सरकार ने शुरू की नई योजना, महिलाओं को अब चंद घंटों में म‍िलेंगे ₹40,000

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने महिला सशक्तिकरण (women empowerment) के लिए ‘महिला निधि योजना (Mahila Nidhi Yojana)’ की शुरुआत की है। इस योजना को शुरू करने का सरकार का उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है।

Mahila Nidhi Yojana

महिलाओं और पुरुषों के लिए मोदी सरकार (Modi Sarkar) द्वारा हर तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। इसके अलावा कई राज्य सरकारें भी महिलाओं के लिए कई तरह की योजनाएं चला रही हैं।

महिलाओं को अब चंद घंटों में म‍िलेंगे ₹40,000

इसी तरह अब राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot government of Rajasthan) ने महिला सशक्तिकरण के लिए ‘Mahila Nidhi Yojana’ की शुरुआत की है। इस योजना को शुरू करने का सरकार का उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है। महिलाएं इस योजना (business idea for women) के तहत मिलने वाले लोन से अपना व्यवसाय शुरू कर सकती हैं।

Mahila Nidhi Yojana के तहत महिलाएं 40,000 रुपये तक का ऋण ले सकती हैं। इस योजना को लागू करने वाला राजस्थान दूसरा राज्य बन गया है। राजस्थान से पहले तेलंगाना ने यह योजना लागू की थी।
इस योजना की मदद से कोई भी महिला 48 घंटे के अंदर 40 हजार तक का लोन ले सकती है। वहीं, इससे ज्यादा कीमत का कर्ज लेने के लिए आपको 15 दिनों तक इंतजार करना होगा.

महिलाएं व्यवसाय शुरू कर सकती हैं

राज्य सरकार (state government) द्वारा शुरू की गई इस योजना के माध्यम से महिलाओं को व्यवसाय करने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा। महिलाएं लोन के पैसे से अपना बिजनेस शुरू कर सकती हैं। इसके बाद राजस्थान (Rajasthan) की महिलाओं को आर्थिक मदद के लिए किसी पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा। Mahila Nidhi Yojana के तहत महिला को आवेदन करने के 48 घंटे के भीतर loan मिल जाएगा।

48 घंटे में कर्ज मिलने का प्रावधान

महिला निधि योजना (Mahila Nidhi scheme) में 48 घंटे में 40 हजार रुपये तक का ऋण प्राप्त करने का प्रावधान है। अगर आपने इससे अधिक राशि के लिए आवेदन किया है तो कर्ज की राशि खाते में आने में 15 दिन का समय लगेगा। आपको बता दें कि राजस्थान के 33 जिलों में 2.70 लाख स्वयं सहायता समूहों का गठन किया गया है. इसमें अब तक 30 लाख परिवार जुड़ चुके हैं। इसके तहत राज्य के कुल 36 लाख परिवारों को लाभ मिलेगा.

बजट में घोषित किया गया था

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehlot) ने 2022-23 के बजट में Mahila Nidhi Yojana की घोषणा की थी। तेलंगाना के बाद राजस्थान दूसरा राज्य है, जहां Mahila Nidhi Scheme की शुरुआत की गई। उन्होंने कहा कि राज्य में महिला स्वयं सहायता समूहों को मजबूत करने के लिए यह योजना शुरू की गई है. इस योजना के तहत गरीब और संपत्तिहीन महिलाओं को भी आसानी से ऋण मिल सकेगा।

लोन लेने के लिए जरूरी दस्तावेज

इस योजना का उद्देश्य महिलाओं को सशक्त बनाना और महिलाओं की आय बढ़ाना है। राजस्थान में ग्रामीण आजीविका विकास परिषद की ओर से इस योजना की स्थापना की गई। योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी महिला को आधार कार्ड, डोमिसाइल सर्टिफिकेट, इनकम सर्टिफिकेट और बैंक अकाउंट की जानकारी देनी होगी। सरकार जल्द ही इस योजना से संबंधित आवेदन प्रक्रिया का भी अनावरण करेगी।

योजना से जुड़ेंगे 6 लाख परिवार

प्रदेश के 33 जिलों में फिलहाल 2 लाख 70 हजार स्वयं सहायता समूह बनाए गए हैं, जिनमें 30 लाख परिवार जुड़े हुए हैं. वित्तीय वर्ष 2022-23 में 50 हजार स्वयं सहायता समूह गठित करने का प्रस्ताव है, जिसमें करीब 6 लाख परिवारों को जोड़ा जाएगा। राजस्थान महिला निधि से राज्य के कुल 36 लाख परिवारों को चरणबद्ध तरीके से उनकी आवश्यकताओं के आधार पर लाभ दिया जाएगा।

Home PageClick Here

नोट-यह न्‍यूज वेबसाइट से मिली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है, SarkariiYojana.in अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।

close button